राजनीतिक संरक्षण के बिना नकली दवा का कारोबार संभव नहीं : अजय सिंह

0
216
पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने आरोप लगाया है कि शिवराज की भाजपा सरकार नकली  रेमडेसिविर इंजेक्शन  माफिया के साथ खड़ी है| शिकायतों के बाद भी कोई जांच नहीं हुई| इतना सब होने के बाद शिवराज सिंह मस्त हैं| 
उन्होंने कहा कि राजनीतिक संरक्षण के बिना प्रदेश में इतने बड़े पैमाने पर नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन का कारोबार संभव नहीं है| अभी तक सिर्फ  इंदौर में 700 और जबलपुर में 500 नकली इंजेक्शन बेचे जाने की जानकारी सामने आई है| पूरे प्रदेश में हजारों की तादाद में लोग इन  नकली इंजेक्शनों के कारण अकाल मृत्यु के शिकार हो चुके हैं| उन्होंने कहा कि जब सरकार ने यह निश्चित किया है कि रेमडेसिविर इंजेक्शन प्रशासन के माध्यम से अस्पतालों को मिलेंगे तब पिछले दो माह से कैसे नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन का कारोबार चल रहा है|  जाहिर है कि शिवराज सरकार रेत और शराब  माफिया की तरह अब नकली इंजेक्शन माफिया के साथ भी मिली हुई है| प्रदेश की जनता, सरकार के लिए सिर्फ भेड़ बकरियां हैं| 
सिंह ने कहा कि क्या सरकार के पास इसका कोई जवाब है कि जब जबलपुर केमिस्ट एसोसिएशन द्वारा  पिछले महीने ही जिला और औषधि प्रशासन को इसकी शिकायत कर दी गई थी|  तब इस शिकायत पर कोई कार्यवाही न करके ठंडे बस्ते में क्यों डाल दिया गया? यदि जबलपुर केमिस्ट एसोसिएशन की शिकायत पर कार्यवाही होती तो प्रदेश भर में नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन से मरने वाले लोगों की जान बचाई जा सकती थी | इस शिकायत पर कोई कार्यवाही न होना यह बताता है कि नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचने वाले माफिया को सरकार की तरफ से खुली छूट मिली हुई  है| इन नकली रेमडेसिविर इंजेक्शनों का कहाँ कहाँ उपयोग किया गया और कितने लोग इसके शिकार हुए इसकी गहन जांच की जाना चाहिए| 
अजयसिंह ने प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में कोविड संक्रमण के फैलने पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि यदि त्वरित कार्यवाही करके इसे नियंत्रित नहीं किया गया तो कोरोना महामारी विकराल रूप ले सकती है| उन्होंने कहा कि केरल की तरह जिस ग्राम में संक्रमण पाया जाता है उसी ग्राम में कोरोंटाइन करने और इलाज करने का इंतजाम करना जरूरी है ताकि संक्रमण को समीपवर्ती इलाके में फैलने से रोका जा सके| 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here