भाजपा नेतृत्व की मांग- इमरती देवी पर टिप्पणी के लिए सोनिया-प्रियंका माफी मांगे, कमलनाथ को कांग्रेस से निकालें

0
17

प्रदेश अध्यक्ष श्री शर्मा के नेतृत्व में ग्वालियर में विशाल मौन धरना
ग्वालियर 19 अक्टूबर। नवरात्रि के पर्व पर जब पूरा देश मां और नारी शक्ति की अराधना कर रहा है, उस समय डबरा में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने श्रीमती इमरती देवी के बारे में अपशब्द कहे, वो पूरी नारी जगत और अनुसूचित जाति समाज का अपमान है। अब इस मुद्दे पर सोनिया गांधी और प्रियंका वाड्रा देश से माफी मांगें और कमलनाथ को पार्टी से बाहर करें। इस मुद्दे पर पार्टी पुलिस में कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर भी कराएगी। यह बात आज फूलबाग में विशाल मौन व्रत के बाद भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री विष्णुदत्त शर्मा ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए कही।
प्रदेशाध्यक्ष श्री शर्मा ने कहा कि जिस प्रकार से कांग्रेस नेताओं ने नैना साहनी हत्याकांड किया, प्रीति श्रीवास्तव को कुचलकर मार डाला, ठीक उसी प्रकार श्रीमती इमरती देवी के लिए अपमान वाले शब्दो का उपयोग पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने किया है। यह कांग्रेस की मानसिकता का परिचायक है। एक दलित महिला के अपमान के लिए कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व सोनिया गांधी व प्रियंका वाड्रा देश की नारी शक्ति से माफी मांगे और ऐसी सोच रखने वाले कमलनाथ को पार्टी से निष्कासित करें।
प्रदेशाध्यक्ष श्री शर्मा ने कहा कि श्रीमती इमरती देवी तो कमलनाथ को भाई मानती थीं और पैर छूती थीं, फिर भी उनके बारे में ऐसे शब्द कहे। भाजपा नेताओं ने सोमवार को दो घंटे पूरे राज्य में मौन धरना देकर प्रदर्शन किया है और अब देश व प्रदेश की महिलाएं इस अपमान का जबाव देंगी। भाजपा ने चुनाव आयोग से इसकी शिकायत की है और जल्दी ही पुलिस में भी इसकी एफआईआर दर्ज कराई जाएगी।
केंद्रीय मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि श्रीमती इमरती देवी के लिए अपमानजनक शब्द कहने पर महिलाओं और दलितों की बात करने वाली सोनिया गांधी और प्रियंका वाड्रा को माफी मांगनी चाहिए, क्योंकि इस मुद्दे पर जितना भी पश्चाताप किया जाए, उतना कम है। केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर ने कहा कि समझ में नहीं आता कि कांग्रेस के नेताओं का क्या हो गया है। कोई नेता महिलाओं को टंच माल बोलता है तो कोई आइटम। इससे कांग्रेस का महिला विरोधी चरित्र उजागर हो गया है और यही कारण है कि कांग्रेस लगातार हाशिए पर आती जा रही है और आने वाले समय में और ज्यादा किनारे लग जाएगी। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर कांग्रेस नेता जितना भी पश्चाताप करें, उतना कम हैं। कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व सोनिया गांधी और प्रियंका गांधी यदि महिलाओं और दलितों के हित की बात करती हैं तो माफी मांगे।
उन्होंने कहा कि श्रीमती इमरती देवी के लिए अपमानजनक शब्द कहने के विरोध में सोमवार को भाजपा नेताओं ने पूरे राज्य में मौन धरना देकर प्रदर्शन किया है और इस मामले में चुनाव आयोग से भी शिकायत की जा रही है। श्री तोमर ने स्पष्ट किया कि चुनाव में जो प्रचार की मर्यादा हमारे पूर्वजों ने बांधी है, उसको लांघने पर गंभीर परिणाम होंगे।
भाजपा के वरिष्ठ नेता श्री प्रभात झा ने कहा कि नवरात्रि में देवियों की पूजा हो रही है और श्री कमलनाथ ने मातृशक्ति देवी माता बहनों के बारे में जो टिप्पणी की है, यह नवरात्रि में देवी का अपमान है, नारी शक्ति का अपमान है और इसकी हम कड़ी निंदा करते हैं। हम शुरू से कह रहे हैं कि यह राजनेता नहीं, यह उद्योगपति है और इनकी मानसिकता कैसी है, इस अमर्यादित टिप्पणी से पूरी देश की जनता ने कमलनाथ को समझ लिया है। क्या यह मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रहने लायक थे, माता बहनों के प्रति ये अशोभनीय टिप्पणी है, कलंकित करने वाली है और यह कांग्रेस को कलंकित कर रही है। कमलनाथ गंदी मानसिकता से राजनीति में काम कर रहे हैं और इसलिए मध्य प्रदेश के अनुसूचित जाति के महिला पर यह टिप्पणी पूरे मध्यप्रदेश के महिलाओं का अपमान है, दलितों का अपमान है, अनुसूचित जाति का अपमान है।
भाजपा जिलाध्यक्ष श्री कमल माखीजानी ने मौन धरने का आभार व्यक्त किया।
इस अवसर पर क्षेत्रीय सांसद श्री विवेक नारायण शेजवलकर, सीधी सांसद रीति पाठक, वरिष्ठ नेता श्री जयभान सिंह पवैया, संभागीय संगठन मंत्री श्री आशुतोष तिवारी, श्री उमाशंकर गुप्ता, श्री गौरीशंकर बिसेन, श्री अजय विश्नोई, श्री ध्यानेंद्र सिंह, भाजपा प्रत्याशी श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, श्री मुन्नालाल गोयल, प्रदेश मीडिया प्रभारी श्री लोकेंद्र पाराशर, जिलाध्यक्ष श्री कमल माखीजानी, भिंड जिलाध्यक्ष श्री नाथू सिंह गुर्जर, वरिष्ठ नेता श्री जयसिंह कुशवाह, श्री देवेश शर्मा, श्री जयप्रकाश राजौरिया, श्री शरद गौतम, श्री महेश उमरैया, श्री राकेश जादौन, श्री राकेश गुप्ता, श्री अशोक जादौन, श्री रामेश्वर भदौरिया, श्रीमती सुमन शर्मा, श्रीमती समीक्षा गुप्ता, श्रीमती खुशबू गुप्ता, श्रीमती विनती शर्मा, श्रीमती रीना सोलंकी, श्रीमती व्यंजना मिश्रा, श्रीमती रेशु राजावत, श्रीमती मीना सचान, श्रीमती रितु शेजवार, श्री अशोक शर्मा, श्री बालखांडे, श्री विवेक चैहान, श्री निर्दोष शर्मा, श्री हरीश यादव, श्री अशोक पटसारिया, श्री राकेश खुरासिया, श्री नीलिमा शिंदे, श्री गंगाराम बघेल, श्री किशन मुदगल, श्री शिवेंद्र राठौर, श्री मोहन विटवेकर, श्री जगत कौरव, श्रीमती नीरू ज्ञानी, श्री मान सिंह राजपूत, श्री अशोक बांदिल, श्री सोमेश महंत, श्री विवेक शर्मा, श्री राजू सेठ, श्री राजेंद्र जैन, श्री पूरन सिंह भदौरिया, श्री ओमप्रकाश शेखावत, श्री सुघर सिंह पवैया, श्री रमेश सेन, श्री मनोज तोमर, डाॅ राकेश रायजादा, श्रीमती अंजलि रायजादा, श्री राजेश महोविया, श्री गजेंद्र राठौर, श्री सोनू मंगल, श्री शैलेंद्र सिकरवार, श्री राजीव पाराशर, श्री अनिल त्रिपाठी, नरेश कटारे, अजीत बरैया, धर्मेंद्र राणा, रूकमणि जोशी, हरीश मेवाफरोश, अशोक साहू, सुशील वर्मा, देवेंद्र पवैया, महेंद्र सेंगर, श्यामानंद शुक्ला, चंद्रप्रकाश गुप्ता, दीपक पमनानी, बिरजू शिवहरे, राजू सेंगर सहित सैकडों कार्यकर्ता उपस्थित थे।

मौन व्रत के बाद युवा मोर्चा कार्यकर्ताओं ने पूर्व मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ की अमर्यादित टिप्पणी के विरोध में श्री कमलनाथ का पुतला दहन किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here