यास के कारण शहरों में घुसा समुंदर का पानी, एनडीआरएफ ने कई परिवारों का किया रेस्क्यू

0
119

दिल्ली। ताउते के जख्म अभी भरे भी नहीं थे कि यास ओडिशा और बंगाल में तांडव मचा रहा है। कई शहरों में तेज हवाओं और पानी ने बहुत नुकसान किया है। कई रिहायशी इलाकों में समुंदर का पानी घुस चुका है। सड़कों पर कारें डूबती हुई नजर आ रही है वहीं यहां एनडीआरएफ की टीम लोगों को बचाने के काम में जुट गई है। अभी तक लाखों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया जा चुका है। वहीं तूफान के बाद एक घर के गिरने से उसमें फंसे छह लोगों को एनडीआरएफ ने बचा लिया है।
ओडिशा में तेज तूफान के कारण एक कच्चे मकान की दीवार टूटने की जानकारी मिलते ही वहां पहुंची एनडीआरएफ की टीम ने घर के चार लोगों को सुरक्षित निकाला। एनडीआरएफ ने एक और परिवार के लोगों को बचाया है। यहां एनडीआरएफ की सौ से अधिक टीमें तैनात हैं। टीम को जैसे ही कहीं से सूचना मिलती है टीम मौके पर पहुंचकर लोगों का रैस्क्यू कर रही है। ताउते के बाद ही मौसम विभाग ने यास तूफान की चेतावनी दे दी थी। मौसम विभाग की चेतावनी के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं गृहमंत्री ने बंगाल तथा ओडिशा सहित तूफान से प्रभावित होने वाले राज्यों के मुख्यमंत्रियों से चर्चा की थी। इसके बाद ही यहां एनडीआरएफ को लगाया गया था। राज्य सरकारों द्वारा भी मौसम विभाग की चेतावनी के बाद मछुआरोें को लगातार मुनादी करके बताया जा रहा था कि वे समुद्र में न जाएं। यास तूफान खतरनाक रूप ले सकता है। जैसी आशंकाएं व्यक्त की गई थी वैसा ही उसने अपना रूप दिखाया है। मौसम विभाग का मानना है कि इस तूफान में हवा की गति 155 किमी प्रति घंटा तक रही। तूफान के कारण समुंदर का पानी धामरा तथा भद्रक के रिहायशी इलाकों में पहुंच गया है। बालासोर में भी पानी लोगों के घरों तक पहुंच गया है। इसके अलावा केन्द्रपाडा तथा मयूरभंज भी तूफान से प्रभावित हुए हैं। रेलवे ने पहले ही तूफान की चेतावनी के बाद अपनी कई ट्रेनों को उद्द कर दिया था। यास तूफान से आठ राज्य प्रभावित हो रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here