लोक सेवा केंद्र के संचालक से फर्जी आर आई ने मांगी रिश्वत … 20000 की रिश्वत लेते लोकायुक्त ने धर दबोचा..

0
14

इंसिडेंट कमांडर रविनंदन तिवारी का भी नाम…

ग्वालियर। लोकायुक्त पुलिस ग्वालियर ने आज एक बडी कार्रवाई की है। लोक सेवा केंद्र डबरा के संचालक के पद पर पदस्थ लखपत सिंह की शिकायत पर पुलिस अधीक्षक लोकायुक्त ग्वालियर संजीव सिन्हा के निर्देश पर लोकायुक्त पुलिस ने आरआई बनकर 20 हजार रूपये की रिश्वत लेने वाले को धर दबोचा।
लोकायुक्त पुलिस अधीक्षक संजीव सिन्हा ने बताया कि तीन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। फर्जी आरआई बन कर नक्शा नवीस में परिवर्तन करने के नाम पर 20000 की रिश्वत लेने का मामला है रिटायर एएसएलआर एवं एसएलआर सहित तीन लोगों पर लोकायुक्त ने की कार्रवाई की है। ग्वालियर जिले के घाटीगांव अनुभाग के अंतर्गत आने वाले ग्राम सिमरिया टांका में जमीनी नक्शे में परिवर्तन करने के लिए 20000 रिश्वत की मांग की गई थी।

रिश्वत लेते हुये धर दबोचने की कार्रवाई लोकायुक्त निरीक्षक रानीलता नामदेव के नेतृत्व में उनकी टीम ने की। लोक सेवा केंद्र डबरा में पदस्थ लखपत सिंह की भूमि घाटीगांव अनुभाग के ग्राम सिमरिया टाका में है जहां नक्शा दुरुस्त कराने के लिए आर आई बनकर सोबरन सिंह रजक द्वारा 20000 की रिश्वत की मांग की गई थी, जिसकी शिकायत लखपत सिंह ने पुलिस अधीक्षक लोकायुक्त ग्वालियर से की थी । मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक लोकायुक्त संजीव सिन्हा ने रानीलता के नेतृत्व में टीम बनाकर योजना बनाई । जिस पर आज लोक सेवा केंद्र डबरा कार्यालय पर सोबरन सिंह रजक को लोकायुक्त पुलिस ने 20000 की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ लिया जब लोकायुक्त ने सोबरन सिंह रजक से कड़ाई से पूछताछ की तो लोकायुक्त पुलिस के होश उड़ गए और उसने बताया कि मैं तो एक मोहरा हूं वह तो काम रिटायर एएसएलआर बलराम मोदी एवं एसएलआर ग्वालियर रविनंदन तिवारी के लिए करता है वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन पर तीनों लोगों पर लोकायुक्त पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here