सुप्रीम कोर्ट के डायरेक्शन पर हाईकोर्ट ने स्वतः ही लिया संज्ञान,, सांसदों विधायकों के मामलों के शीघ्र निपटारे की पहल…

0
14

जबलपुर। मध्यप्रदेश हाइकोर्ट ने एक सु-मोटो याचिका पर केंद्र व राज्य सरकार से पूछा कि सांसदों, विधायकों के खिलाफ लम्बित आपराधिक मामलों के तीव्र गति से निपटारे के लिए क्या उपाय अपनाए जा सकते हैं? हाइकोर्ट की डिवीजन बेंच ने केंद्र सरकार के विधि मंत्रालय, राज्य सरकार, राज्य सरकार के मुख्य सचिव, विधि एवं विधायी कार्य विभाग के प्रमुख सचिव व मध्यप्रदेश हाइकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल को इस सम्बंध में नोटिस जारी किया।

बेंच ने ई मेल से नोटिस भेजने का निर्देश देकर मामले की अगली सुनवाई 19 अक्टूबर तय की है।
सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर हाइकोर्ट ने यह सु-मोटो (स्वतः संज्ञान) याचिका दायर की है।
यह है मामला- दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने 16 सितम्बर 2020 को सभी उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीशों से कहा था कि वे उनके यहां लंबित ऐसे आपराधिक मामलों को तत्काल सुनवाई के लिए उचित पीठ के समक्ष लगाएं।
विशेषकर जिन मामलों में कोर्ट ने रोक आदेश जारी कर रखा है, उनमें पहले यह देखा जाए कि रोक जारी रहना जरूरी है कि नहीं।
अगर रोक जारी रहना जरूरी है, तो उस मामले को रोजाना सुनवाई करके दो महीने में निपटाया जाए।
इसमें कोई ढिलाई न हो।

कोरोना नहीं हो सकती बाधा- ….

सुप्रीम कोर्ट ने उक्त आदेश में स्पष्ट किया कि इस काम में कोरोना महामारी बाधा नहीं हो सकती, क्योंकि ये सारे मामले वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये सुने जा सकते हैं।
सभी उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीशों से मामले के निपटारे के लिए जरूरी विशेष अदालतों की संख्या तथा ढांचागत संसाधनों के बारे में एक कार्य योजना तैयार करके भेजने का निर्देश दिया गया था….

किसानों के साथ लाखों की ठगी, बैंक कर्मचारियों ने की हेरा-फेरी मध्यांचल ग्रामीण बैंक के का मामला, दर्जनों लोगों के साथ करीब 40 लाख की ठगी।

दमोह। ग्राम किशुनगंज स्थित मध्य भारत ग्रामीण बैंक में किसानों से करीब 40 लाख रुपए की ठगी का मामला उजागर हुआ है। बताया जा रहा है कि एक कर्मचारी एवं चपरासी की मिलीभगत ने स्थानीय किसानों से ठगी की है। इसकी शिकायत पुलिस चौकी नरसिंहगढ़ के अलावा पुलिस अधीक्षक से की गई है लेकिन बैंक कर्मचारियों पर अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है। मामला देहात पुलिस थाना की नरसिंहगढ पुलिस चौकी के ग्राम किशुनगंज स्थित मध्य भारत ग्रामीण बैंक का है। दर्जनों किसान अपने साथ हुई ठगी की शिकायत करने नरसिंहगढ पुलिस चौकी पहुंचे। शिकायत करने आये गणेश सोनी ने बताया कि उनके द्वारा 4 लाख रुपए मध्य भारत ग्रामीण बैंक के चपरासी अनिल काछी के माध्यम से अभय सिंह राजपूत नामक व्यक्ति को जमा किए हैं जिसकी उन्हें कोई रसीद नहीं दी गई। इसी प्रकार गांव के करीब दो दर्जन लोगों से ग्रामीण बैंक के चपरासी अनिल काछी के द्वारा से क्रेडिट कार्ड की वसूली के नाम पर लाखों रुपए की ठगी की गई है एवं रुपए लेने के एवज में हर माह ब्याज देने का आश्वासन भी दिया गया था। कुछ दिनों तक लोगों को ब्याज भी इन कर्मचारियों के द्वारा दिया गया, जिससे लोगों का भरोसा बैंक पर हो गया। इसके बाद जब एक खाताधारक ने अपनी रकम बैंक से निकालना चाही तो जब रुपए नहीं निकले तो यह बात सभी लोगों में फैल गई। इस तरह लाखों रुपए की ठगी का मामला उजागर हो गया। इस मामले की शिकायत सभी लोगों ने एकजुट होकर नरसिंहगढ़ पुलिस चौकी में आवेदन देकर की साथ ही ग्रामीणों ने एसपी को भी अपनी व्यथा सुनाई। बताया जा रहा है कि मध्य ग्रामीण बैंक के मैनेजर अभय सिंह राजपूत का अन्य जगह तबादला हो गया है, पीड़ित किसानों से शिकायत प्राप्त होने पर बसपा विधायक पति गोविंद सिंह भी पुलिस चौकी नरसिंहगढ़ पहुंचे तथा गबन करने वाले कर्मचारियों पर कार्रवाई करने बात कही। इस संबंध में थाना प्रभारी श्याम बेन का कहना है कि- जांच जारी है और दोषियों पर कार्यवाही की जायेगी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here