विद्युत उपभोक्ताओं की समस्याओं का निराकरण प्राथमिकता के आधार पर किया जाए: ऊर्जा मंत्री श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर

0
21

चेम्बर की मांग-बिजली कंपनी द्वारा उपभोक्ता के लिए एक कंज्यूमर चार्टर जारी किया जावे, जिसका पालन नहीं होने पर उपभोक्ता को पूर्व की तरह मुआवजा का भी प्रावधान रखा जाए और यह मुआवजा इस विलम्ब के लिए जिम्मेदार से वसूला जाए
चेम्बर भवन में विद्युत समस्या निवारण शिविर सम्पन्न
ग्वालियर १८ फरवरी| ऊर्जा मंत्री माननीय श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर के मुख्यातिथ्य में ‘चेम्बर भवन’ में आज विद्युत समस्या निवारण शिविर का आयोजन किया गया| इस अवसर म.प्र. मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के महाप्रबंधक शहर वृत्त-श्री विनोद कटारे,  महाप्रबंधक-ओएण्डएम-श्री सुनील खरे, दक्षिण संभाग के उपमहाप्रबंधक-श्री राहुल साहू, सेन्ट्रल डिवीजन के उपमहाप्रबंधक-श्री राजकुमार मालवीय आदि अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित थे|
शिविर के प्रारंभ में एमपीसीसीआई अध्यक्ष-विजय गोयल द्बारा अतिथियों के सम्मान में स्वागत उद्बोधन दिया| इस अवसर पर आपने कहा कि चेम्बर का प्रमुख उद्देश्य ही समस्याओं का निराकरण कराना है| इसी तारतम्य में विद्युत शिविर का आयोजन किया गया है| शिविर में पधारे मुख्य अतिथि-माननीय श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर एवं विद्युत वितरण कंपनी के अधिकारियों एवं शिविर में पधारे सभी महानुभावों का हार्दिक स्वागत है|
ऊर्जा मंत्री-श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने अपने उद्बोधन में कहा कि जनहित में विद्युत समस्या निवारण शिविर लगाने के लिए मैं चेम्बर का आभारी हूं और आशा करता हूं कि बिजली विभाग को आपका सहयोग इसी प्रकार मिलता रहेगा और आपका यह सेवक इसी प्रकार आपकी भावना अनुसार कार्य करता रहेगा| आपने इस अवसर पर विद्युत वितरण कंपनी के अधिकारियों को निर्देशित किया कि आज इस शिविर में जो भी समस्याएं प्राप्त हों, उनका प्राथमिकता के आधार पर शीघ्रता से निराकरण किया जाए और यदि कोई समस्या शासन स्तर की है, तो उससे मुझे अवगत कराएं ताकि उसका भी निराकरण कराया जा सके| आपने कहा कि जनसेवा करना हमारा कर्तव्य और दायित्व भी है| उपभोक्ता को हम अच्छी सर्विस देंगे तभी विद्युत वितरण कंपनी फायदे में आयेगी| चेम्बर की मांग पर आपने कहा कि प्रत्येक जोन पर एक फ्लेक्स लगाया जायेगा जिसमें कनिष्ठ यंत्री से लेकर जीएम तक के मोबाइल नम्बर होंगे| साथ ही, शिकायत के निराकरण की समय सीमा भी निर्धारित होगी| वितरण कंपनी के कार्यालयों में शिकायत रजिस्टर रखा जायेगा, जिसमें उपभोक्ता की शिकायत दर्ज कर, पावती भी दी जायेगी और इस कार्य की शुरूआत ग्वालियर से की जायेगी| मीटर रीडर तीन माह से ज्यादा एक स्थान पर नहीं रहेंगे| उपभोक्ताओं पंचनामे की प्रति पठनीय दी जायेगी| उपभोक्ता के जिस कागज पर भी हस्ताक्षर करायें, उसकी प्रति उपभोक्ता को दी जाए| विद्युत उपभोक्ताओं से फीडबैक लेने का कार्य जारी रहेगा| सिनेमा, कोचिंग आदि के न्यूनतम चार्ज और फिक्स्ड चार्ज में राहत देने के प्रस्ताव पर शीघ्र निर्णय लेंगे| इस हेतु ऐसे उपभोक्ताओं की पूरी जानकारी के साथ सुझाव देने के निर्देश अधिकारियों को दिये| आपने अधिकारियों को निर्देश दिए कि शिविर में प्राप्त समस्याओं का संभवत: मौके पर ही निराकरण करें|
शिविर में महाराजपुरा स्थित एक औद्योगिक इकाई पर सीसीबी चार्जेज के रूप में लगाई गई १,०८,५५१/- रूपये की राशि को ऊर्जा मंत्री जी द्बारा हटाने का निर्देश दिया गया| शिविर में करीब २०० विद्युत उपभोक्ताओं की शिकायतें प्राप्त हुईं जिनमें से करीब १४५ का मौके पर ही निराकरण किया गया|
इससे पूर्व शिविर में मानसेवी सचिव-डॉ. प्रवीण अग्रवाल ने निम्नलिखित बिन्दुओं पर ज्ञापन का प्रस्तुतीकरण माननीय ऊर्जा मंत्री के समक्ष किया|
बिन्दु जो चेम्बर द्बारा प्रमुखता से उठाये गये:
* बिजली कंपनी द्वारा उपभोक्ता के लिए एक कंज्यूमर चार्टर जारी किया जावे, जिसमे सभी अधिकारियों की एक इंटरनल मीटिंग कर प्रत्येक कार्य की समय सीमा को तय किया जावे | उसका पालन नहीं होने पर उपभोक्ता को पूर्व की तरह मुआवजा का भी प्रावधान रखा जाए और यह मुआवजा इस विलम्ब के लिए जिम्मेदार से वसूला जाए |
* बिजली के बिल भुगतान हेतु चैक स्वीकार किए जाएं : म. प्र. मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्बारा १ जून,२०२० से उपभोक्ताओं के विद्युत बिलों के भुगतान हेतु चेकस्वीकार नहीं किए जा रहे हैं | इस स्थिति में विभिन्न संस्थाओं को अपना विद्युत बिल कैश में जमा कराना पड़ता है और बिल की राशि अधिक होने से अप्रिय घटना घटित होने की संभावना बनी रहती है| इसलिए बिजली बिल के भुगतान हेतु चैक स्वीकार किए जाएं| इस संबंध में हमारा सुझाव है कि यदि चैक अनादृत होने की समस्या के चलते वितरण कंपनी द्बारा यह निर्णय लिया गया है तो इस स्थिति से निपटने के लिए जिन उपभोक्ताओं का चैक एक से अधिक बार अनादृत हो जाये उनके चैक भविष्य में स्वीकार न किए जाने का प्रावधान सॉफ्टवेयर में किया जा सकता है |
* मीटर रीडर सभी उपभोक्ताओं के मोबाइल नम्बर लेकर आएँ, जिससे बिल जारी होने व मेंटिनेंस के लिए घोषित और अघोषित कटौती होने पर लाइट आने के संभावित समय की जानकारी दी जाए |
* एब्नॉर्मल खपत वाले बिलो को डीजीएम स्वयं चेक करने के बाद जारी करें |
* सिनेमा, कोचिंग आदि के न्यूनतम चार्ज और फिक्स्ड चार्ज में राहत दी जावे |
* जिन उपभोकताओं की एमडी बढ़ी हो, उनके यहॉं धारा-१२६ की बिलिंग नहीं करते हुए उन्हें अपना लोड चेक करने की समझाइश दी जावे |
* शारदा विहार से शिकायत प्राप्त हुई है कि मीटर रीडर दो माह में एक बार पहुंचता है | इस पर कार्यवाही की जाए|
* उपभोक्ता द्वारा शिकायत करने पर शिकायत क्रमांक देकर आवेदन की पावती देना आवश्यक किया जावे |
* प्रत्येक जोन पर एक फ्लेक्स, जिसमें कनिष्ठ यंत्री से लेकर जीएम तक के मोबाइल नम्बर हो जिसमें लिखा हो कि आवेदन की पावती दी जाएगी और निर्धारित समय पर शिकायत का निराकरण न होने पर डीजीएम और जीएम से संपर्क किया जा सकता है |
* जोन के द्वारा चेकिंग किये जाने पर उपभोक्ता को पंचनामे की कॉपी नहीं दी जाती है, हर वह कागज जिस पर उपभोक्ता के हस्ताक्षर करवाये जा रहे है, उसकी प्रति उपभोक्ता को दिया जाना यह उपभोक्ता का वैधानिक अधिकार है | उसका पालन करवाया जावे एवं पंचनामे की कॉपी पठनीय हो, यह निर्देशित किया जावे |
* ग्रुप मीटर की जब तक पूरी तरह से ट्रेनिंग नहीं होती है, तब तक नहीं लगाया जावे | इससे उपभोक्ता के साथ कंपनी पर अनावश्यक आर्थिक भार पड़ रहा है, वही जो सही तरह से मीटर कार्य कर रहे है, उनकी गारंटी पीरियड पूरे हुए बिना वह कबाड़ खाने की शोभा बढ़ा रहे है |
* शहर के अंदर जनहानि न हो, इसके लिए आवश्यक है कि खुली डीपी ओर उस पर तीनों फेज के सर्किट खुले हुए पड़े है, उन्हें जाली से कवर करवाये जावे |
* आपने जो व्यवस्था दी थी कि अधिकारी १०-१० उपभोक्ता के यहां मोबाइल करके उससे समस्या के बारे में जानेंगे, उस व्यवस्था ने आमजन को बहुत प्रभावित किया था, लेकिन यह कार्य प्रारम्भ में तो हुआ लेकिन अब शायद वह ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है, उसको भी प्रभावी रूप से क्रियान्वयन करवाना सुनिश्चित किया जावे|
* शहर के अंदर अव्यवस्थित ढंग से लटक रही केवल या अनावश्यक रूप से झूल रही केवल को दुरस्त करवाया जावे|
शिविर का संचालन-मानसेवी सचिव-डॉ. प्रवीण अग्रवाल द्बारा तथा अभार-संयुक्त अध्यक्ष-प्रशांत गंगवाल द्बारा व्यक्त किया गया| शिविर में कार्यकारिणी सदस्य-पुरूषोत्तम दास गुप्ता, श्यामलाल बंसल, दीपक जैस्वानी, संजय धवन आदि सहित काफी संख्या में विद्युत उपभोक्ता उपस्थित रहे|

मुझे माला पहनाने के एवज में 20 रूपये गरीब कन्याओं के विवाह के लिए दें: ऊर्जा मंत्री

शिविर में जब एमपीसीसीआई द्बारा माननीय मंत्री जी का बुके देकर स्वागत करना चाहा, इस पर ऊर्जा मंत्री-श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा कि गरीब कन्याओं के विवाह के लिए मेरे द्बारा जनकल्याणकारी ट्रस्ट का गठन किया गया है| इस ट्रस्ट में एकत्रित हुए पैसों से गरीब कन्याओं का विवाह कराया जायेगा| आपने अनुमान जताया कि यदि एक वर्ष में मुझे 10 हजार माला पहनाने के स्थान पर २० रूपये प्राप्त हुए तो यह राशि लगभग २ लाख रूपये होती है और इस राशि से एक गरीब कन्या का विवाह आसानी से हो सकेगा| शिविर में माला पहनाने के एवज में 1720 रूपये एकत्रित हुये|

जनसम्पर्क अधिकारी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here